Nationalist Bharat
ब्रेकिंग न्यूज़

अमीर ए शरीअत सैयद मोहम्मद वली रहमानी सुपुर्द ए ख़ाक, नमाज़ जनाज़ा में हज़ारों लोगों की शिरकत

नमाज़े जनाजा मौलाना के बेटे फहद रहमानी की इजाजत से मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव हजरत अमीरे शरीयत के खलीफा व मजाज मौलाना मुहम्मद उमरीन महफूज रहमानी ने पढ़ाई।इस मौके पर हिंदुस्तान के इलावा दूसरे देशों के हज़ारों लोग शामिल हुए।

 

Advertisement

मुंगेर/पटना:ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के महासचिव और खानकाह रहमानी मुंगेर के सज्जाद नशीन इमारत शरिया बिहार,झारखंड और ओडिशा के अमीर शरीअत हजरत मौलाना वली रहमानी आज हज़ारों नम आंखों से मुंगेर के ख़ानक़ाह में सुपुर्द ए ख़ाक कर दिए गए।नमाज़े जनाजा मौलाना के बेटे फहद रहमानी की इजाजत से मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव हजरत अमीरे शरीयत के खलीफा व मजाज मौलाना मुहम्मद उमरीन महफूज रहमानी ने पढ़ाई।इस मौके पर हिंदुस्तान के इलावा दूसरे देशों के हज़ारों लोग शामिल हुए।

बताते चलें कि शनिवार 3 अप्रैल 2021 को पटना के एक निजी अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली।वो 78 वर्ष के थे।कुछ दिन पहले तबियत बिगड़ने पर उन्हें पटना के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उनके निधन  की खबर मिलते ही शोक की लहर दौड़ गई।हजरत मौलाना वली रहमानी बिहार, ओडिशा और झारखंड के अमीर-ए-शरीयत थे. इसके अलावा वो वर्ष 1974 से 1996 तक बिहार विधानसभा के सदस्य भी रहे. भारत में इस्लामी शिक्षा के सबसे बड़े केंद्रों में से एक जामिया रहमानी की स्थापना वर्ष 1901 में उनके दादा मो. अली मुंगेरी ने की थी. उनके पिता सैय्यद मिनतुल्लाह रहमानी इस्लामिक विद्वान थे. पिता के निधन के बाद वर्ष 1991 में हजरत मौलाना वली रहमानी ख़ानक़ाह रहमानी के सज्जादानशीन बने।वो सामाजिक कार्यो से भी जुड़े रहे, उन्होंने वर्ष 1996 में शिक्षा और स्वास्थ्य को लेकर रहमानी फाउंडेशन की मुंगेर में स्थापना की थी।

Advertisement

Related posts

अमृतकाल में हमें भारत को विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में ऊचाईयों तक ले जाना है:PM मोदी

Nationalist Bharat Bureau

किसानों के बन्द में पूरे बिहार ने लिया बढ़ चढ़ कर हिस्सा

Nationalist Bharat Bureau

हरनोत में सड़कों पर उतरे युवा,बेरोज़गारी पर सरकार को घेरा

Nationalist Bharat Bureau

Leave a Comment