Nationalist Bharat
ब्रेकिंग न्यूज़

नागरिकों की बेचैनी का मर जाना लोकतंत्र का शोकपर्व है

कोरोना काल में ऑक्सीज़न की कमी से एक भी मौत ना होने के केंद्र की भाजपा सरकार के दावे पर बिफरे कुमार विश्वास ने करारा हमला बोला

नई दिल्ली:प्रख्यात कवि और आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता कुमार विश्वास ने केंद्र सरकार पर करारा हमला बोला है।कोरोना काल में ऑक्सीज़न की कमी से एक भी मौत ना होने के केंद्र की भाजपा सरकार के दावे पर बिफरे कुमार विश्वास ने अपने सोशल मीडिया अकॉउंट पर लिखा कि आप सब को शुभ रात्रि । आपके सुखद स्वप्नलोक में ख़लल डालने का कोई इरादा नहीं है। ये बेचैनी मेरी निजी दिक़्क़त है।बिना लाभ-हानि सोचे बेबाक़ सच बोलने के नुक़सान उठाता रहा हूँ, उठाता रहता हूँ, फिर उठा लूँगा।और सच पूछिए तो मुझे इन सारी सरकारों, जिनके घर उजड़ गए उन लोगों के ज़ख़्मों पर अपने बयानों से नमक छिड़कते इन नेताओं की बेशर्मी का कोई दुख भी नहीं है।उस निर्मम संवेदनहीनता का तो मुझे ख़ुद ही दीर्घकालिक व बेहद निजी अनुभव है।मुझे तो कष्ट उन हज़ारों, लाखों बेचैन कराहती आवाज़ों में फ़ोन करने वालों की स्याह ख़ामोशी का है जो उन बेहद ख़राब व मुश्किल दिनों में सिलेंडर व कन्सन्ट्रेटर की एक मिनट की देरी हो जाने पर दस-दस कॉल करते थे।हम और हमारे सारे साथी दोनों हाथ से कॉल कर-करके जान लड़ाते थे कि कोई बच सके तो बच जाए। ख़ैर….सो जाइए ।नागरिकों की बेचैनी का मर जाना लोकतंत्र का शोकपर्व है।
बताते चलें कि कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों के मामले में केन्द्र सरकार के जवाब पर सियासत गर्मा रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय के जवाब से विपक्ष भड़क गया है और आम आदमी पार्टी इस मुद्दे को लेकर संसद में विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव पेश करने की तैयारी में है। इसके अलावा कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने भी इस मामले पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। दरअसल राज्यसभा में यह सवाल पूछा गया था कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान देश में ऑक्सीजन की कमी से कितने लोगों की मौत हुई है। इसके जवाब में कहा गया था कि राज्यों ने केन्द्र सरकार ऐसा कोई आंकड़ा नहीं दिया है।
क्या है पूरा मामला
मंगलवार को कांग्रेस सांसद केसी वेणुगोपाल ने सरकार से पूछा था कि देश में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान कितने लोगों की मौत ऑक्सीजन की कमी से हुई है। इसके जवाब में स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से कहा गया कि दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत की जानकारी राज्यों ने नहीं दी है। इसके बाद वेणुगोपाल ने कहा था कि वो स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया के खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाएंगे।

Advertisement

Related posts

जनप्रतिनिधियों को मिलने वाले पेंशन और भत्ते खत्म करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी को पत्र

META, Twitter, YouTube और Gmail को बिहार सरकार का नोटिस

पश्चिम बंगाल में गरीबों से ‘लूटा गया’ और ED द्वारा कुर्क किया गया धन उन्हें वापस मिलेगा: पीएम मोदी

Leave a Comment