Nationalist Bharat
Other

ए एन कॉलेज में युवा संवाद सह परिचर्चा कार्यक्रम का आयोजन

पटना: सोमवार को ए. एन.कॉलेज,पटना के पुस्तकालय सभागार में युवा संवाद सह परिचर्चा कार्यक्रम का आयोजन किया गया।इस कार्यक्रम को ए.एन. कॉलेज तथा परफेक्शन आई.ए. एस. ने आयोजित किया। इस कार्यक्रम में ‘आई.ए. एस. की तैयारी कैसे करें’ विषय पर बोलते हुए मुख्य अतिथि डॉ. कमल किशोर सिंह(आई.पी.एस.),ए. डी.जी., आधुनिकीकरण, बिहार ने महाविद्यालय के प्रधानाचार्य को बधाई देते हुए कहा कि आज ए.एन.कॉलेज निरंतर प्रगति की पथ पर अग्रसर हो रहा है। बिहार की धरती में शिक्षा हासिल करने की अद्भुत ललक है।यहाँ के युवा बेहद प्रतिभाशाली हैं।यू.पी.एस.सी. परीक्षा की तैयारी के लिए छात्रों को प्रोत्साहित करते हुए उन्होंने कहा कि छात्रों को हमेशा यह सवाल स्वयं से पूछना चाहिए कि वे अपने जीवन में क्या और क्यों बनना चाहते हैं?इस कठिन परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए कड़ी मेहनत , ईमानदारी और जुनून की आवश्यकता है। उन्होंने इस परीक्षा में बेहतर परिणाम हासिल करने के लिए 70:20:10 के फॉर्मूले की बात की।70प्रतिशत परीक्षार्थी की मेहनत,20 प्रतिशत माता -पिता का आशीर्वाद और 10प्रतिशत परीक्षार्थी द्वारा नहीं जानने की सीमा को कम करने की क्षमता पर अच्छा परिणाम निर्भर करता है। उन्होंने आगे कहा कि शिक्षा के द्वारा ही हम अच्छा इंसान और अच्छा समाज बना सकते हैं।

Advertisement

इसके पूर्व इस कार्यक्रम के अतिविशिष्ट अतिथि श्यामजी सहाय, पूर्व आई.ए. एस. ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि यह हम सबों के लिए गर्व की बात है कि इस वर्ष यू.पी.एस.सी की परीक्षा में बिहार के ही छात्र शुभम कुमार ने शीर्ष स्थान हासिल किया है। उन्होंने कहा कि यूपीएससी की तैयारी के लिए स्नातक करने के क्रम में ही विद्यार्थियों को गंभीर हो जाना चाहिए। स्वयं का निरंतर मूल्यांकन करना चाहिए। सबसे पहले यूपीएससी परीक्षा के प्रारूप और प्रवृत्ति को समझने की कोशिश करनी चाहिए। वैकल्पिक विषय का सही चुनाव परीक्षा में सफल होने की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि लक्ष्य की प्राप्ति के लिए निरंतर पढ़ाई करनी चाहिए। इसके लिए मौलिक टेक्स्ट बुक और एनसीईआरटी की पुस्तकों अध्ययन बेहद जरूरी है।साथ ही उत्तर लिखने का निरंतर अभ्यास करते रहना चाहिए।

संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि

कार्यक्रम के अध्यक्ष, ए. एन. कॉलेज. के प्रधानाचार्य प्रो. एस.पी.शाही ने कहा कि नए-नए प्रयोग करना महाविद्यालय की परंपरा रही है। महाविद्यालय ने कम समय में कई उपलब्धियों को प्राप्त किया है। महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं में असीम संभावनाएं है, आने वाले समय में महाविद्यालय के विद्यार्थी निश्चित रूप से सिविल सेवाओं में स्थान प्राप्त करेंगे।कार्यक्रम को परफेक्शन आई.ए. एस. के संस्थापक प्रो. सुनील कुमार,प्रबंध निदेशक रोशन प्रिय, चंदन प्रिय,चंदन राज ने भी संबोधित किया।कार्यक्रम का संचालन मुक्ता सिंह ने किया। धन्यवाद ज्ञापन डॉ. शबाना करीम ने किया। इस अवसर पर महाविद्यालय आइक्यूएसी के समन्वयक डॉ. अरुण कुमार,डॉ कुमार शैलेंद्र,डॉ संजय सिंह तथा विभिन्न विभागों के विद्यार्थी उपस्थित रहे।

Advertisement

Related posts

वरिष्ठ नागरिकों की व्यथा

करंदलाजे करेंगी कासरगोड में 25 वें विश्व नारियल दिवस कार्यक्रम का उद्घाटन

Nationalist Bharat Bureau

पटना में जन्मी प्रिया परमार पूरे देश में क्लासिकल डांस “कथक ‘ शो करके अपना नाम रोशन कर रही हैं

Leave a Comment