Nationalist Bharat
Other

जोधपुर में घूमने के लिए दिलचस्प डेस्टिनेशन्स

गर्मी से बचने के लिए आप क्या-क्या तरीका नहीं करते लेकिन क्या आप जानते हैं कि जोधपुर में गर्मी से बचने के लिए नीले रंग से घरों की सफेदी की जाती है? आपको यहां सभी घर ब्लू कलर से रंगे हुए मिलेंगे. इस वजह से जोधपुर को ब्लू सिटी भी बोला जाता है. इसकी वजह आपको यहां आने पर पता चलेगी. दरअसल, आप यदि जोधपुर के पुराने मकानों की तरफ जाएंगे, तो पाएंगे के ज्यादातर घर नीले रंग में रंगे हैं. इस नीले शहर में कई और ऐसी जगहें हैं, जहां आपको …

गर्मी से बचने के लिए आप क्या-क्या तरीका नहीं करते लेकिन क्या आप जानते हैं कि जोधपुर में गर्मी से बचने के लिए नीले रंग से घरों की सफेदी की जाती है? आपको यहां सभी घर ब्लू कलर से रंगे हुए मिलेंगे. इस वजह से जोधपुर को ब्लू सिटी भी बोला जाता है. इसकी वजह आपको यहां आने पर पता चलेगी. दरअसल, आप यदि जोधपुर के पुराने मकानों की तरफ जाएंगे, तो पाएंगे के ज्यादातर घर नीले रंग में रंगे हैं. इस नीले शहर में कई और ऐसी जगहें हैं, जहां आपको घूमना चाहिए.

Advertisement

मेहरानगढ़ फोर्ट
मेहरानगढ़ किला जोधपुर में आपकी ट्रैवल लिस्ट में सबसे ऊपर होना चाहिए. यह सबसे बड़े भारतीय किलों में से एक है. यह किला शहर से 400 फीट की ऊंचाई पर स्थित है. राव जोधा ने 1459 ई। में किले का निर्माण करवाया था. ऐसा माना जाता है कि किले के निर्माण का कोशिश 1459 में प्रारम्भ किया गया था, लेकिन किले को पूरा होने से कई शताब्दियां लग गई थीं.

Advertisement
उम्मेद भवन

उम्मेद भवन
उम्मेद भवन जहां प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस की वेडिंग डेस्टिनेशन थी. पैलेस का निर्माण साल 1929 में प्रारम्भ किया गया था और इसे 1943 में पूरा किया गया था. यह महल शहर के सबसे ऊंचे जगह पर स्थित है. 347 कमरों वाला विशाल महल दुनिया के सबसे बड़े निजी आवासों में से एक है. रॉयल स्थान घूमना चाहते हैं, तो यहां जरूर आएं.

Advertisement

मंडोर गार्डन
जोधपुर की स्थापना से पहले छठी शताब्दी से संबंधित मंडोर, मारवाड़ की राजधानी थी. यहां के मंडोर गार्डन बड़ी संख्या में पर्यटकों को आकर्षित करते हैं. मंडोर गार्डन में एक सरकारी संग्रहालय, एक ‘हीरोज का हॉल’ और 33 करोड़ देवताओं का मंदिर भी है. यहां आपको काफी कुछ नया देखने को मिलेगा.

Advertisement

कैलाना झील
कैलाना झील शहर के पश्चिम में स्थित है. यह अभी तक एक और मानवनिर्मित झील है, जिसका निर्माण साल 1872 में प्रताप सिंह द्वारा किया गया था. यह राजस्थान में सबसे अधिक बार आने वाली झीलों में से एक है. आप यहां पर बोटिंग भी कर सकते हैं.

Advertisement

जोधा डेजर्ट रॉक पार्क
वर्ष 2006 में राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क के गठन के पीछे का उद्देश्य किले के पास के चट्टानी क्षेत्र को पुनर्स्थापित करना था. एक बार भूमि को बहाल करने के लिए प्रारंभिक कदम उठाए जाने के बाद, मशहूर थार रेगिस्तान से 80 से अधिक देशी पौधों की प्रजातियां उगाई गईं. यह अपने आप में अजूबा माना जाता है.

Advertisement

Related posts

जिला स्वास्थय टास्क फोर्स एवं समन्वय समिति की समीक्षात्मक बैठक

प्रशांत किशोर ने की एक हफ़्ते के राष्ट्रीय लॉकडाउन की वकालत

जन अधिकार पार्टी नेता मोहम्मद अकबर अली की सेवादारी जारी

Leave a Comment