Nationalist Bharat
राजनीति

नौजवान अपनी शादी को भी तरस जाएंगे,जानिए किसने और क्यों कही ये बात…

नई दिल्ली:अपने बयान के द्वारा केंद्र की मोदी सरकार के कई बार असहज करने वाले मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक में केंद्र सरकार की योजना अग्नीपथ पर बयान देकर एक बार फिर केंद्र सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया। अभी तक कर दिया गया बयान से विपक्ष को बैठे बैठा है एक और मुद्दा मिल गया है जिसके सहारे केंद्र एक बार फिर विपक्ष के निशाने पर आ सकता है। मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने उत्तर प्रदेश के बागपत में एक बार फिर से केंद्र सरकार पर हमला बोला है।राज्यपाल ने अग्निपथ योजना को लेकर कहा है कि चार साल की यह योजना सेना और नौजवानों को बर्बाद करके रख देगी।चार साल के लिए भर्ती होने वाले नौजवान अपनी शादी को भी तरस जाएंगे।केंद्र सरकार को इस पर पुर्नविचार करना चाहिए।मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि अग्निपथ योजना के सरकार को वापस लेनी चाहिए और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगर मिलने का समय दें तो उनके साथ इस पर चर्चा करेंगे। गवर्नर मलिक ने मीडिया से कहा, देश का सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी है, अग्निपथ स्कीम पर सरकार को दोबारा विचार करना चाहिए। यह योजना बहुत शर्मनाक है, युवाओं को नीचा दिखाएगी और इस योजना से युवाओं का कोई लाभ नहीं होने वाला है। इसलिए इस योजना को वापस लिया जाना चाहिए।

 

Advertisement

मैं इस मसले पर प्रधानमंत्री से जरूर मुलाकात करना चाहूंगा :
सरकार योजना को वापस लेने के लिए मना कर रही है। इस सवाल के जवाब पर मलिक ने कहा, सरकार चाहे तो पूरे देश पर रोलर चलवा सकती है। मगर यह योजना गलत है और इसे सरकार को वापस लेना चाहिए। किसानों के बाद अब अग्निपथ योजना पर आवाज उठा रहे हैं, क्या आप पीएम से मुलाकात करेंगे? इस सवाल पर मालिक ने कहा, मैं इस मसले पर प्रधानमंत्री से जरूर मुलाकात करना चाहूंगा। यदि वह मुझे समय दे दें तो, मैं एक संवैधानिक पद पर जरूर हूं, लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि हमने अपनी आत्मा बेच खाई है। 

 

Advertisement

सरकार से मैं इसे तुरंत वापस लेने की मांग करूंगा
इस योजना पर आप सरकार से क्या मांग करते हैं? इस पर उन्होंने कहा, सरकार से मैं इसे तुरंत वापस लेने की ही मांग करूंगा, क्योंकि पहले सेना के जवान की बहुत इज्जत हुआ करती थी। इस योजना के बाद उन्हें वो रस्पेक्ट नहीं मिलेगी। तीनों सेनाओं का हौसला गिर जाएंगा। सेना का महत्व खत्म हो जाएगा और जवानों का महत्व खत्म हो जाएगा। सबसे बड़ी खामी यह कि, यह नौकरी सिर्फ चार वर्षों के लिए है, उसके बाद नौजवान सड़क पर आ जाएगा, शादी तक नहीं होगी ।

अग्निपथ योजना
गौरतलब है कि, अग्निपथ योजना भारतीय सशस्त्र बलों से जुड़ी एक ऐसी योजना है, जिसमें साढ़े 17 से 23 साल उम्र तक के नौजवानों को चार साल के लिए ‘अग्निवीर’ के रूप में भर्ती किया जाएगा।

Advertisement

Related posts

अभी तो बांग्लादेश से पीछे हुए हैं, कुछ दिन में नेपाल से हो जाएंगे:तेजस्वी यादव

काँग्रेस सत्ता पाना तो दूर विपक्ष तक बनने को तैयार नहीं

वो भारत के विपरीत परिस्थितियों का पप्पू है

Leave a Comment