Nationalist Bharat
स्वास्थ्य

प्रदूषण के खिलाफ जंग, ट्री मैन 9 अगस्त से ‘प्रदूषण भारत छोड़ो’ आंदोलन की करेंगे शुरुआत

फरीदाबाद। ट्री मैन के नाम से प्रसिद्ध गुरुग्राम के रहने वाले डॉ. दीपक रमेश गौड़ दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के खिलाफ जल्द ही जंग छेड़ने वाले हैं। ऐतिहासिक दिन नौ अगस्त 1942 को शुरू हुए अंग्रेजों भारत छोड़ो की तर्ज पर वे आने वाली नौ अगस्त से ‘प्रदूषण भारत छोड़ो’ अभियान की शुरुआत करेंगे। एनआईटी-पांच स्थित सी. दास ग्रुप के कॉर्पोरेट कार्यालय के सामने पार्क में पौधरोपण करने के बाद उन्होंने की अभियान की जानकारी दी। इस दौरान उनके साथ ग्रुप के निदेशक विपिन भाटिया भी मौजूद थे। डॉ. गौड़ ने बताया कि अब तक वे 10 लाख पौधे लगा व लगवा चुके हैं।

डॉ. गौड़ ने बताया कि उन्होंने 2012 में पेड़ों और हरियाली में दिलचस्पी लेना शुरू किया। जब वह 2010 में एक सड़क दुर्घटना का शिकार हुए, जिससे वह लगभग छह महीने तक कोमा में रहे। यह मेरे लिए जीवन बदलने वाला क्षण था और इसने मुझे प्रकृति और मानवता का महत्व सिखाया। पेड़ हमें ऑक्सीजन देते हैं। एक पेड़ वर्ग, धर्म और जातीयता के आधार पर मनुष्यों के बीच अंतर नहीं करता है, यह हमें ऑक्सीजन देता रहता है। डॉ. गौड़ ने बताया कि उन्होंने भारत सहित विदेशों में पेड़ लगाने के लिए कई पहल शुरू की हैं।

Advertisement

उन्होंने दिल्ली में विभिन्न दूतावासों में अभियान चलाया। उनकी पहल, गिफ्ट ए ट्री अभियान, 2012 में शुरू हुआ और स्थानीय निवासियों से समर्थन प्राप्त किया। डॉ. गौड़ का मानना ​​है कि पेड़ निस्वार्थता, सहिष्णुता, प्रेम और दोस्ती के आदर्श उदाहरण हैं। वह लोगों को पौधे उपहार में देते हैं और यह सुनिश्चित करते है कि उसकी उचित देखभाल हो रही है या नहीं। उन्होंने बताया की वर्ष 2012 में पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम से मिलने और उन्हें एक पौधा उपहार देकर उन्होंने अपने इस अभियान को शुरू किया था।

नौ अगस्त से ‘प्रदूषण भारत छोड़ो’ अभियान
डॉ. गौड़ ने बताया कि दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण से जंग के लिए अब नौ अगस्त 2022 से वो ‘प्रदूषण भारत छोड़ो’ अभियान की शुरुवात करेंगे। इसके लिए लोगों को पौधरोपण के लिए जागरूक करेंगे। शहर और देहात में जा-जाकर पौधरोपण किया जाएगा। इस अभियान को सफल बनाने के लिए विभिन सामाजिक संगठनों व कॉर्पोरेट्स के साथ उनकी बातचीत चल रही है और सभी ने उन्हें सहयोग का आश्वासन दिया है।

Advertisement

Related posts

जानिए ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखने के लिए क्या खाएं

बिहार: गया में कोविड के और पांच केस सामने आए

Nationalist Bharat Bureau

आध्यात्मिक गुणों के अलावा भी है चंदन के यह औषधीय गुण

Leave a Comment