Nationalist Bharat
शिक्षा

ज़ेबुन्निसा की कविता

ध्रुव गुप्त

इन दिनों औरंगज़ेब जबरदस्त चर्चा में है। औरंगज़ेब ने क्या किया, यह इतिहास लिखने-पढ़ने वाले जाने। हम मुहब्बत वाले लोग हैं। सो हम चर्चा करेंगे औरंगज़ेब की बेटी और मुहब्बत की अप्रतिम शायरा ज़ेबुन्निसा उर्फ मख्फी की जिसने मुहब्बत के इल्ज़ाम में बीस साल कैद की सज़ा काटी और क़ैद में ही मर गई।। उनके ‘दीवान-ए-मख्फी’ की सौ कविताओं का मैं अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद करने की कोशिश कर रहा हूं। उनमें से तीन कविताएं मैंने पहले पोस्ट की थी। आपके लिए हाज़िर है उनकी एक और रुबाई का अनुवाद। पढ़िए और नफ़रतों के इस दौर में मुहब्बत की कोमल संवेदनाओं में डूब जाईए !

Advertisement

मैं मुसलमान नहीं
बुतपरस्त हूं
अपने प्रिय की छवि के आगे
मैंने सर भी झुकाया है
और उसकी पूजा भी की है

नहीं, मैं ब्राह्मण भी नहीं
अपना पवित्र धागा उतारकर
मैंने कब का फेंक दिया है
इन दिनों लपेटे फिर रही हूं
गले में
अपने प्रिय के लंबे, घुंघराले बाल !

Advertisement

Related posts

प्राइवेट स्कूल असोसिएशन की सूबे की शिक्षा व्यवस्था सुधारने हेतु चार मांगे

Nationalist Bharat Bureau

परमहंस जनता पुस्तकालय दहिया में नर्सरी टीचर्स ट्रेनिंग में नामांकन शुरू

Nationalist Bharat Bureau

प्राइवेट स्कूलस एंड चिल्ड्रन वेलफेयर एसोसिएशन के राज्य स्तरीय सम्मेलन में सेंट माइकल स्कूल के फादर क्रिस्टो मंत्री डॉ अशोक चौधरी के हाथों बेस्ट प्रिंसिपल अवार्ड से सम्मानित

Leave a Comment