Nationalist Bharat
विविध

एक मजदूर का दर्द:मरने से डर लगता है कि कहीं दूसरी दुनियाँ में भी मजदूर न बन जाऊं!

प्रेमसिंह सियाग
सबीर हका ईरान के करमानशाह में सन 1986 में पैदा हुए।अब तेहरान शहर में किराये के कमरे में रहते है।इमारतों के निर्माण कार्य मे मजदूर है और ईरान के युवा कवि भी है।अपनी हालत को देखते हुए ईश्वर के अस्तित्व पर प्रश्न चिन्ह खड़ा करते हुए लिखा है….

मैं ईश्‍वर का दोस्‍त नहीं हूँ
इसका सिर्फ़ एक ही कारण है
जिसकी जड़ें बहुत पुराने अतीत में हैं
जब छह लोगों का हमारा परिवार
एक तंग कमरे में रहता था
तब ईश्‍वर के पास बहुत बड़ा मकान था
जिसमें वह अकेले ही रहता था

Advertisement

 

सबीर हका ने दुनियाँ भर की व्यवस्थाओं पर भी सवाल खड़ा करते हुए लिखा..मैं

Advertisement

पूरी दुनिया को अपना कह सकता हूँ

दुनिया के हर देश को अपना कह सकता हूँ
मैं आसमान को भी अपना कह सकता हूँ
इस ब्रह्मांड की हरेक चीज़ को भी
लेकिन तेहरान के इस बिना खिड़की वाले
किराए के कमरे को अपना नहीं कह सकता,
मैं इसे अपना घर नहीं कह सकता

Advertisement

जब श्रमिक स्पर्धा में कविता का प्रथम पुरस्कार मिला तो इंटरव्यू देते समय पत्रकार ने पूछा कि आप थके हुए लग रहे हो तो जवाब में कहा ” मैं थका हुआ हूँ, बेहद थका हुआ, मैं पैदा होने से पहले से ही थका हुआ हूँ।मेरी माँ मुझे अपने गर्भ में पालते हुए मज़दूरी करती थी, मैं तब से ही एक मज़दूर हूँ। मैं अपनी माँ की थकान महसूस कर सकता हूँ।उसकी थकान अब भी मेरे जिस्‍म में है।”सबीर हका ने आगे कहा कि कविताओं से पेट नहीं भरता।पेट भरने के लिए हाड़तोड़ मेहनत करनी पड़ती है।मैं अपने कमरे के कोने में यह पुरस्कार रख दूंगा और ईंट-रोड़ा उठाने निकल जाऊंगा।पड़ौसी मजदूरों के बच्चे टूटी खिड़की से इस पुरस्कार को देखेंगे।एक गरीब के लिए,एक मजदूर के लिए साहित्य लेखन बहुत ही मुश्किल कार्य होता है।दो वक्त की रोटी के जुगाड़ में ही जीवन संघर्ष चलता रहता है।अगर इसके बीच भी लिखना/बोलना शुरू कर दे तो तमाम राजनैतिक, सामाजिक,आर्थिक ताकतें दायरा दिखाने लगती है कि तुझ गरीब की इतनी हिम्मत!सबीर हका ने मजदूरों की मौत को सबसे सस्ती बताते हुए लिखा है…..

क्‍या आपने कभी शहतूत देखा है!
जहां गिरता है, उतनी ज़मीन पर
उसके लाल रस का धब्‍बा पड़ जाता है.
गिरने से ज़्यादा पीड़ादायी कुछ नहीं
मैंने कितने मज़दूरों को देखा है
इमारतों से गिरते हुए,
गिरकर शहतूत बन जाते हुए!

Advertisement

 

 

Advertisement

सबीर हका लिखते है कि पूरी जिंदगी मैंने महसूस किया है कि मौत भी जिंदगी का हिस्सा है फिर भी मरने से डर लगता है कि कहीं दूसरी दुनियाँ में भी मजदूर न बन जाऊं!गरीबी के दुष्चक्र से बाहर निकलना अपने आप मे जीवन की मुक्ति है अन्यथा हका जैसा युवा जो ईश्वर के अस्तित्व को अस्वीकार कर देता है वो भी सदा मजदूर बने रहने से खौफजदा रहता है।एक गरीब का ,एक मजदूर का दर्द खुद मजदूरी करने वाले सबीर हका जैसे लोग ही व्यक्त कर सकते है।हका लिखते है कि मैं चाहकर भी अपने कैरियर का चुनाव नहीं कर सकता।मैं बैंककर्मी नहीं बन सकता,मैं इन्स्पेक्टर नहीं बन सकता।मेरा पिता मजदूर थे।मेरी माँ मजदूर थी।किराये का मकान था।पिता के गुजरने के बाद मजदूर बनकर घर संभालना मजदूर बनने का जरूरी आधार बन गया।

 

Advertisement

 

हर इंसान के अपने सपने होते है व सपनों को पूरा करने की चाहतें दिलों में समेटे रोज जिंदगी के संघर्ष में गतिमान रहता है।सबीर ने लिखा कि जब मर जाऊंगा तो सारी किताबें कफ़न में बांधकर कब्र में ले जाऊंगा।सिगरेट जलाऊंगा और कस खींचते हुए रोऊंगा उन सपनों के लिए जो जिंदगी में प्राप्त न हो सके।एक डर फिर भी रहेगा कि किसी सुबह कोई कंधा झंझोड़कर न कह दें “अबे सबीर उठ!काम पर चलते है!”

Advertisement

Related posts

यादें माड़-भात की

क्यों तारक मेहता का उल्टा चश्मा शो को छोड़ रहे हैं टप्पू ?

बिहार सरस मेला में उमड़ रही है भीड़

Nationalist Bharat Bureau

Leave a Comment