Nationalist Bharat
शिक्षा

नई शिक्षा नीति समय की जरूरत:शमायल अहमद

पटना:प्राइवेट स्कूल एंड चिल्ड्रन वेलफेयर एसोसिएशन एवं नालंदा लर्निंग सिस्टम के संयुक्त तत्वधान में आज दिनांक 12 अगस्त 2022 को पटना के होटल चाणक्य में न्यू एजुकेशन पॉलिसी 2020 के चैलेंज एवं अपॉर्चुनिटी पर आयोजित एक कार्यशाला का आयोजन किया गया इस अवसर पर एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सैयद शमायल अहमद ने कहां कि नालंदा लर्निंग सिस्टम भारत में माता-पिता के मोबाइल ऐप के साथ एकमात्र मंच है जो बच्चे के लिए मापनीय परिणाम प्रदान करता है और घर पर कक्षा शिक्षण और सामग्री तक सहज पहुंच प्रदान करता है, यह सुनिश्चित करता है कि सीखना कभी बंद न हो। उन्होंने बताया कि इसके माध्यम से छात्रों को वेबसाइट डिजाइन, सोशल मीडिया दिशानिर्देशों, डिजिटल प्रचार, अभिभावक जुड़ाव रणनीतियों और नई लीड जनरेशन गतिविधियों के माध्यम से डिजिटल डोमेन में अपना ब्रांड स्थापित करने में सहायता मिलेगी।

 

Advertisement

 

वही इस अवसर में उपस्थित नालंदा लर्निंग सिस्टम के सीईओ तमाल मुखर्जी ने कहां महामारी ने शिक्षा विभाग को नया रूप दिया है । जबकि इसने शिक्षा प्रौद्योगिकियों को अपनाने में तेजी लाई है, लाभ समाज के एक छोटे से वर्ग तक सीमित हैं।
मुखर्जी के अनुसार, नालंदा का इरादा न केवल बच्चों के लिए निरंतर सीखने और विकास के परिणाम सुनिश्चित करना है, बल्कि प्री-स्कूलिंग उद्योग को पुनर्जीवित करने और कौशल बढ़ाने और व्यापक, समकालीन और प्रारंभिक शिक्षा कार्यक्रम प्रदान करने में सक्षम बनाना है। यह अपने डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से पूरे भारत में अपनी उच्च गुणवत्ता वाली शिक्षाशास्त्र का विस्तार करता है, “नालंदा टीम ने प्री-स्कूलिंग व्यवसाय की फिर से कल्पना करने में बड़ी निपुणता दिखाई है और प्री-स्कूल मालिकों, शिक्षकों और माता-पिता के लिए अपने उच्च गुणवत्ता वाले शिक्षण को अत्यधिक प्रभावशाली व्यावसायिक प्रस्ताव में अनुवाद करने में सक्षम है।

Advertisement

 

 

Advertisement

प्राइवेट स्कूल्स एंड चिल्ड्रन वेलफेयर एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष शमायल अहमद ने कहा कि कुछ वर्षों से बच्चों की संख्या ऊपर के कक्षाओं में कम होती जा रही है क्योंकि बड़ी संख्या में कोचिंग संस्थान विभिन्न प्रकार से बच्चों को लोभ दिला कर स्कॉलरशिप के नाम पर अपनी ओर खींच रहे हैं और बच्चो की बेसिक नीव को खोखला करने का काम कर रही है।जल्द ही एसोसिएशन शिक्षा मंत्री से मिलकर ऐसे कोचिंग संस्थानों पर कार्रवाई करने और सुबह 8:00 बजे से शाम 4:00 बजे तक कोचिंग संचालन करने पर रोक लगाने की मांग करेगा।इस अवसर पर मुख्य रूप से एसोसिएशन के प्रदेश के पदाधिकारियों में डॉ उमेश प्रसाद, परितोष कुमार त्रिपाठी, मोहम्मद साबिर, जेपी वर्मा, इफत रहमान एवं एसोसिएशन की प्रधान कार्यालय सचिव फौज़िया खान मौजूद रहे।

Advertisement

Related posts

ऐसे हालातों से गुजर कर मिलती है कामयाबी

Nationalist Bharat Bureau

जो तूफान में आपका साथ देतें हैं उन्हें कभी नहीं भूलना चाहिए

फरीदाबाद: हरियाणा के सभी विश्वविद्यालयों में लागू होगा श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय का आरपीएल प्रोग्राम

Nationalist Bharat Bureau

Leave a Comment