Nationalist Bharat
ब्रेकिंग न्यूज़

CoronaVirus:कोरोना वायरस से चीन के हालात बिगड़े,भारत सतर्क

नई दिल्ली:अपने पहले और दूसरे दौर में तबाही मचाने के बाद चीन में कोरोना(CoronaVirus)के नए वैरिएंट BF.7 से संक्रमण के मामलों में हो रही बेतहाशा बढ़ोतरी को देखते हुए भारत सरकार भी सतर्क हो गई और इस महामारी से निपटने के लिए राज्य सरकार को भी दिशा-निर्देश जारी किया गया है.चीन में कोरोना(CoronaVirus) से हालात बिगड़ते जा रहे हैं. जीरो-कोविड पॉलिसी खत्म होने के बाद वहां कोरोना के मामलों में भारी इजाफा हो रहा है. पिछले कुछ दिनों में चीन में लाखों लोग संक्रमण की चपेट में आए हैं. कोरोना(CoronaVirus) से बड़े पैमाने पर लोगों ने अपनी जान भी गंवाई है. हालात इतने गंभीर हैं कि अस्पतालों के बेड भरे हुए हैं और राजधानी बीजिंग के श्मशानों में अपनों के अंतिम संस्कार के लिए लोगों को 24 घंटे का वेट करना पड़ रहा है.चीन में कोरोना(CoronaVirus) से बिगड़े हालात पर भारत समेत दुनिया भर के देश बेहद चिंतित हैं. पड़ोसी देश होने की वजह से भारत में भी लोग काफी डर रहे हैं. हालांकि देश के वायरोलॉजिस्ट और विशेषज्ञों का कहना है कि भारत में चीन जैसे हालात होने की संभावना कम है. उनका तर्क है कि यह देश पहले ही कीमत अदा कर चुका है.यही वजह है कि उत्तर प्रदेश(utter pradesh) से लेकर छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश(Madhy Pradesh० से लेकर महाराष्ट्र(Maharashtra) तक में राज्य सरकारों(STATE GOVERNMENT) ने कोरोना(CORONA) की रोकथाम के लिए कई अहम फैसले लिए हैं.

स्वास्थ्य मंत्री की बैठक
स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया की अध्यक्षता में कोविड समीक्षा बैठक भी हो चुकी है, लेकिन प्रतिबंध को लेकर कोई बड़ी घोषणा नहीं की गई है. स्वास्थ्य मंत्री ने यह जरूर कहा है कि लोगों को बेहद सावधान रहने और मास्क का प्रयोग सुनिश्चित करने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि वर्तमान और भविष्य की स्थितियों पर लगातार नजर रखने की जरूरत है और सरकार किसी भी स्थिति का सामना करने के लिए तैयार है.

Advertisement

कोरोना पर सीएम योगी की कैबिनेट मीटिंग
उत्तर प्रदेश में कोरोना(CoronaVirus) मरीजों की संख्या में वृद्धि होने के बाद विदेश से आने वाले लोगों के कोरोना जांच का फैसला लिया गया है,  वहीं कोरोना(CoronaVirus) को लेकर गुरुवार की सुबह 10 बजे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंत्रीपरिषद की बैठक बुलाई है. बैठक में कई बड़े फैसले लिए जा सकते हैं

हिमाचल में बूस्टर डोज़ नहीं लगी
हिमाचल प्रदेश(HIMACHAL PRADESH) में साढ़े 28 लाख लोगों ने कोरोना(CoronaVirus) से बचाव के लिए बूस्टर डोज नहीं लगाई है। सरकार ने 52 लाख लोगों को बूस्टर डोज(BUSTER DOSE) लगाने का लक्ष्य रखा था। इनमें महज साढ़े 23 लाख लोगों ने ही वैक्सीन लगाई है। स्वास्थ्य विभाग(HEALTH MINISTRY) का कहना है कि इन लोगों ने कोरोना वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज ली है, लेकिन तीसरी डोज लगाने के लिए नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र नहीं पहुंचे हैं। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि वैक्सीन लगाने से ही कोरोना(CoronaVirus) से बचा जा सकता है। नेशनल हेल्थ मिशन (एनएचएम) के पास एक लाख डोज हैं। अगर लोग वैक्सीन लगाने के लिए आगे आते हैं तो केंद्र सरकार ने कोरोना वैक्सीन मांगी जाएगी। एनएचएम के निदेशक हेमराज बैरवा ने कहा कि हिमाचल में अभी कोरोना(CoronaVirus) खत्म नहीं हुआ है।उल्लेखनीय है कि अन्य राज्यों की अपेक्षा पहले और दूसरे डोज में हिमाचल पहले नंबर पर रहा है। फिलहाल, हिमाचल में कोरोना वैक्सीन की कमी नहीं है। उत्तराखंड सरकार को भी हिमाचल से वैक्सीन भेजी गई है। उधर, प्रदेश सरकार ने मेक शिफ्ट अस्पतालों में व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। अस्पताल में आने वाले मरीजों को मेक शिफ्ट अस्पतालों में भर्ती किया जाएगा। इन अस्पतालों में आक्सीजन, वेंटिलेटर, मास्क, सैनिटाइजर और दवाइयां आदि तैयारियां रखने को कहा गया है। हिमाचल के स्वास्थ्य संस्थानों में मास्क पहनना अनिवार्य हो सकता है। प्रदेश सरकार का मानना है कि अस्पतालों में लोगों की भीड़ उमड़ी रहती है। ऐसे में उचित दूरी के साथ साथ कोरोना से बचाव के नियमों को लागू किया जा सकता है।

Advertisement

Bihar Corona Update: बुधवार को इस मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में कोरोना(CoronaVirus) की जांच हर दिन जितनी होती है और टीकाकरण कर रहे हैं उतना कहीं नहीं हो रहा है. यहां कोरोना(CoronaVirus) का केस शून्य रहता है तो किसी-किसी दिन एक या दो रहता है. अभी एक्टिव केस तीन हैं. पूरे देश में भी कहीं कई खास केस नहीं है. हमलोग तो हर जगह लगातार जांच कराते रहे हैं. हम लोग अभी भी सक्रिय हैं।

चीन में वैरिएंट ओमिक्रॉन, ज्यादातर बीएफ7 का खतरा बना हुआ है
हालांकि, सूत्रों का कहना है कि चीन के विभिन्न शहरों में अभी भी कोविड के सबसे संक्रामक वैरिएंट ओमिक्रॉन, ज्यादातर बीएफ7 का खतरा बना हुआ है, जो बीजिंग में फैलने वाला सबसे महत्वपूर्ण वैरिएंट है। इसके चलते चीन में कोविड संक्रमण के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी देखी जा रही है। BF7 वास्तव में Omicron के संस्करण BA5 का एक उप-प्रकार है और इसकी अधिक संक्रामकता और कम ऊष्मायन अवधि है, और लोगों को फिर से संक्रमित करने या संक्रमित करने की अधिक क्षमता है। जिन्हें टीका लगाया गया है। यह अमेरिका, ब्रिटेन और यूरोपीय देशों जैसे बेल्जियम, जर्मनी, फ्रांस और डेनमार्क सहित कई अन्य देशों में पहले ही पाया जा चुका है।

Advertisement

भारत सरकार एक्शन मोड में
चीन में कोरोना(CoronaVirus) वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए भारत सरकार एक्शन मोड में आ गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने एयरपोर्ट पर चीन से आने वाले लोगों की जांच करने को कहा है. चीन से आने वाले लोगों की अब स्क्रीनिंग की जाएगी। मंत्रालय ने इस संबंध में अधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी किए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों ने बताया है कि देश में कोरोना(CoronaVirus) के 10 अलग-अलग वेरिएंट हैं, जिनमें से लेटेस्ट वेरिएंट BF7 है. इसके साथ ही देश में कहीं-कहीं डेल्टा वेरिएंट भी देखा जा रहा है।

Advertisement

Related posts

BRAC इंटरनेशनल के प्रतिनिधियों का जीविका द्वारा संचालित गरीबी निवारण के कार्यों का अवलोकन

लालू यादव को अस्पताल से मिली छुट्टी, सिंगापुर में ही मनाएंगे क्रिसमस और नया साल

Nationalist Bharat Bureau

टि्वटर कैंपेन के जरिए सहायक उर्दू अनुवादक के अभ्यर्थियों ने ज़ाहिर किया अपना दर्द

Leave a Comment