Nationalist Bharat
ब्रेकिंग न्यूज़

BJP के लिए COVID वहीं है, जहां ‘भारत जोड़ो यात्रा’ है : राहुल गांधी

राहुल गांधी ने कहा, ‘‘भाजपा और आरएसएस नफरत का बाजार है, कांग्रेस की मोहब्बत की दुकान उसी नफरत के बाजार में है.’’

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधते हुए कहा कि केंद्र में सत्तारूढ़ दल भारत के अन्य भागों में जितनी चाहें उतनी जनसभाएं कर सकता है, लेकिन उसे केवल वहीं कोविड दिखाई देता है, जहां से ‘भारत जोड़ो यात्रा’ गुजर रही है. गांधी ने गुरुवार भी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि वह कन्याकुमारी से कश्मीर तक की यात्रा को रोकने के लिए ‘‘बहाने” ढूंढ रही है. यात्रा इस समय हरियाणा में है और शनिवार को यह राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में प्रवेश करेगी.
गांधी ने शुक्रवार शाम एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘अब, (केंद्रीय) स्वास्थ्य मंत्री मुझे पत्र लिख रहे हैं कि कोविड वापस आ गया है, यात्रा बंद करो. शेष भारत में भाजपा जितनी चाहे जनसभाएं कर सकती है, लेकिन जहां ‘भारत जोड़ो यात्रा’ चल रही है, वहां कोरोना और कोविड है.”
इस सप्ताह की शुरुआत में, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने गांधी को पत्र लिखकर अनुरोध किया था कि यदि कोविड प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया जा सकता है तो वह यात्रा को स्थगित करने पर विचार करें.
भाजपा पर निशाना साधते हुए गांधी ने कहा कि कुछ चुनिंदा लोग नफरत फैला रहे हैं और वे चाहते हैं कि किसानों और युवाओं के दिल में डर हो. उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन किसान और युवा सहित भारत के आम लोग प्यार की भाषा बोल रहे हैं और एकसाथ मिलकर चल रहे हैं.
उन्होंने कहा कि ‘भारत जोड़ो यात्रा’ बेरोजगारी, महंगाई, भय और नफरत के खिलाफ है.
उन्होंने कहा कि पिछली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार की नीतियां जन-समर्थक और गरीब-समर्थक थीं, लेकिन नोटबंदी और ‘गलत जीएसटी’ जैसी भाजपा सरकार की नीतियां डर फैलाती हैं. उन्होंने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा बेरोजगारी, महंगाई और भय और नफरत के खिलाफ है.
कन्याकुमारी से कश्मीर तक की यह यात्रा सात सितंबर को शुरू हुई थी और अब तक यह यात्रा तमिलनाडु, केरल, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तेलंगाना, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और राजस्थान से गुजर चुकी है और इस समय यह हरियाणा से गुजर रही है.
गांधी ने 2014 और 2019 के संसदीय चुनावों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘‘कांग्रेस-मुक्त भारत” के नारे का उल्लेख किया और कहा, ‘‘कांग्रेस एक संगठन नहीं है, एक राजनीतिक संगठन नहीं है, बल्कि सोचने का एक ढंग है, जीने का एक ढंग है. एक तरफ आरएसएस और भाजपा है और दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी.”
गांधी ने कहा, ‘‘भाजपा और आरएसएस नफरत का बाजार है, कांग्रेस की मोहब्बत की दुकान उसी नफरत के बाजार में है.”
उन्होंने दोहराया, ‘‘वह नफरत के बाजार में प्यार की दुकान खोल रहे हैं.”
गांधी ने कहा, ‘‘नफरत, हिंसा और डर जो आरएसएस और भाजपा ने फैलाया, नरेंद्र मोदी ने इसे समझा, लेकिन वह कांग्रेस पार्टी, कांग्रेस की विचारधारा को नहीं समझ सके क्योंकि इस देश से प्यार को कोई नहीं मिटा सकता.”
उन्होंने कहा कि ऐसा मत सोचो कि लड़ाई कांग्रेस और भाजपा के बीच है. उन्होंने कहा कि यह लड़ाई हजारों वर्षों से चली आ रही है. उन्होंने कहा, ‘‘वे नफरत फैलाते हैं, हम प्यार फैलाते हैं. वे हिंसा फैलाते हैं, हम अहिंसा से मुकाबला करते हैं. वे डरते हैं, हम नहीं. यही अंतर है.”
गांधी ने कहा, ”सात-आठ साल तक मोदी जी ने मुझे और कांग्रेस को बदनाम करने के लिए हजारों करोड़ रुपये खर्च किए. मैं एक शब्द नहीं बोला. जो कुछ भी झूठ बोला उन्होंने मेरे बारे में, मैं एक शब्द नहीं बोला और मैं चुप रहा. मैंने कभी खुद को बचाने की कोशिश नहीं की.”
अपनी यात्रा का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इसे जनता का भारी समर्थन मिला है. उन्होंने कहा, ‘‘पूरे देश ने देखा कि इस आदमी (राहुल) को केवल अपने देश, किसानों, ,श्रमिकों और किसानों से प्यार है.”
उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने (भाजपा-आरएसएस) भारत को बांटने और नफरत फैलाने का काम किया. कन्याकुमारी से शुरुआत करने से पहले मैंने सोचा था कि पूरे देश में नफरत है. मैं डरा हुआ था. लेकिन जब मैंने शुरुआत की, तो मुझे एक बात पता चली, लोग नफरत नहीं चाहते हैं, वे सिर्फ प्यार चाहते हैं.”
गांधी ने कहा, ‘‘इस यात्रा में भारत है, प्यार है और यात्रा के श्रीनगर पहुंचने पर हम वहां तिरंगा फहराएंगे.”
गांधी ने कहा कि उच्च शिक्षित युवा आज बेरोजगार हैं, जिनमें कई इंजीनियरिंग स्नातक भी शामिल हैं जो ‘‘पकौड़े” बेच रहे हैं या टैक्सी चला रहे हैं.
जनसभा में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, रणदीप सिंह सुरजेवाला और कुमारी सैलजा सहित कांग्रेस की राज्य इकाई के वरिष्ठ नेता उपस्थित थे.
Advertisement

Related posts

एक लाख 78 हजार शिक्षकों की नियुक्ति से करोड़ों लोगों के जीवन में आएगी खुशहाली : इरशाद अली आजाद

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, जम्मू-कश्मीर में चुनाव के लिए तैयार हैं

बजरंग दल नाम होने से वह बजरंगबली नहीं हो जाता है:शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती

Leave a Comment