Nationalist Bharat
विविध

पूमरे के 75 स्टेशन बनाए जाएंगे माडल

पटना: अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत पूर्व मध्य रेल (पूमरे) को नए साल में बड़ी सौगात मिली है। सोनपुर रेलमंडल के 15 समेत पूमरे के पांच रेलमंडलों के 75 छोटे-बड़े स्टेशनों को माडल बनाया जाएगा। रेल मंत्रालय ने दीर्घकालिक ²ष्टिकोण के साथ निरंतर आधार पर स्टेशनों के विकास की परिकल्पना की है। इस योजना के तहत पूमरे के सोनपुर, समस्तीपुर, दानापुर, धनबाद, पंडित दीनदयाल उपाध्याय रेलमंडल के स्टेशनों की सूची रेलवे बोर्ड के उच्चाधिकारियों को भेजी गई है। विभाग की स्वीकृति मिलते ही इस दिशा में कार्य शुरू हो जाएगा।
इस योजना का उद्देश्य रेलवे स्टेशनों के लिए मास्टर प्लान तैयार करना और सुविधाओं को बढ़ाने के लिए विभिन्न चरणों में इसे लागू कराना है। विभिन्न ग्रेड के प्रतीक्षालय व क्लब आदि बनाए जाएंगे। अच्छा कैफेटेरिया, सभी श्रेणियों के स्टेशनों पर उच्च स्तरीय प्लेटफार्म बनाए जाएंगे। सड़कों को चौड़ा करने, अवांछित संरचनाओं को हटाने, उचित रूप से डिजाइन किए गए साइनेज, समर्पित पैदल मार्ग, सुनियोजित पार्किंग क्षेत्र, बेहतर प्रकाश व्यवस्था आदि तैयार कर बेहतर स्टेशन बनाया जाएगा। दिव्यांगजनों की सुविधाओं का भी विशेष ख्याल रखा गया है। उनके लिए स्टेशनों पर शौचालय, पीने का पानी आदि सुविधाएं दी जाएंगी। फंड की उपलब्धता व मौजूदा परिसंपत्तियों की स्थिति को ध्यान में रखकर स्थायी और पर्यावरण के अनुकूल धीरे-धीरे स्टेशनों में बदलाव किया जाएगा। स्टेशन पर यात्रियों की संख्या, उपयोगकर्ताओं, विभिन्न विभागों और स्थानीय अधिकारियों सहित परामर्श व मंडल रेल प्रबंधक के अनुमोदन के आधार पर अंतिम रूप दिया जाएगा।
सोनपुर मंडल के ये स्टेशन बनाए जाएंगे माडल
दिघवारा स्टेशन
सोनपुर जंक्शन
हाजीपुर जंक्शन
भगवानपुर स्टेशन
रामदयालु नगर स्टेशन
ढोली स्टेशन
खगडिय़ा जंक्शन
मानसी जंक्शन
नवगछिया जंक्शन
दलङ्क्षसहसराय स्टेशन
लखमिनियां स्टेशन
शाहपुर पटोरी स्टेशन
महेशखुट स्टेशन
साहिबपुर कमाल स्टेशन
काढ़ागोला रोड स्टेशन
अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत पूर्व मध्य रेल के सोनपुर सहित पांचों रेलमंडल के अंतर्गत आने वाले 15-15 रेलवे स्टेशनों को माडल स्टेशन बनाया जाएगा। इस दिशा में कार्रवाई शुरू हो गई है।
वीरेंद्र कुमार, मुख्य जनसंपर्क अधिकारी, पूर्व मध्य रेल 

Related posts

पिता जी को हरदिन याद करता हूँ और खोता हूँ,पिताजी आज होते तो हमारी जिंदगी निश्चित तौर पर हर मायने में बेहतर होती:निखिल आनंद

जाती नहीं सुबह की सी चाय की तलब!

राजा और भगवान

Leave a Comment