Nationalist Bharat
ब्रेकिंग न्यूज़

संसद परिसर से हटाया जाए सैंगोल,राजतंत्र का है प्रतीक

नई दिल्ली:संसद के पहले सत्र में आपातकाल और संविधान को लेकर अभी बहस खत्म नहीं हुई थी कि विपक्ष की ओर से एक और मांग रख दी गई है। मोहनलालगंज से समाजवादी पार्टी के सांसद आर के चौधरी ने संसद सत्र की शुरुआत में ही सेंगोल को हटाने की मांग कर दी।

Advertisement

 

उत्तर प्रदेश के संसदीय क्षेत्र मोहनलालगंज से लोक सभा सदस्य सांसद आरके चौधरी ने काफी कड़े तेवर दिखाते हुए लोक सभा अध्यक्ष को पत्र लिखा। शपथ लेने के बाद स्पीकर को पत्र लिख कर सदन में लगे सेंगोल का किया कड़ा विरोध। आरके चौधरी ने कहा कि सेंगोल को हटा कर भारतीय संविधान की विशालकाय प्रति स्थापित किया जाए। लोक सभा अध्यक्ष को संबोधित पत्र में आर के चौधरी ने लिखा कि मैं विधि द्वारा स्थापित भारत की संविधान के प्रति सच्ची श्रद्धा व निष्ठा रखूंगा। शपथ लेने के बाद स्पीकर को पत्र लिख कर कड़ा विरोध किया कि सदन में पीठ के ठीक दाहिने स्थापित सींगोल देखकर मैं आश्चर्यचकित रह गया। महोदय हमारा संविधान भारतीय लोकतंत्र का एक पवित्र ग्रंथ है जबकि एकल अर्थात राजदण्ड राजतंत्र का प्रतीक है। हमारी संसद लोकतंत्र का मंदिर है किसी राज्य राजवाड़े का राजमहल नहीं है अतः मैं आग्रह करना चाहूंगा कि संसद भवन से सींगोल हटाकर उसकी जगह भारतीय संविधान की विशालकाय प्रति स्थापित की जाए। सांसद आरके चौधरी ने पहले ही दिन कड़े तेवर का परिचय देते हुए संसद में मजबूत इरादों की झलक दिखा दी।

Advertisement

 

सेंगोल को हटाने की मांग पर अखिलेश ने कही ये बात

अखिलेश यादव ने कहा कि हमारे सांसद इसलिए कह रहे होंगे कि जब पहली बार इसे स्थापित किया गया तो तब पीएम ने इसे प्रणाम किया था. लेकिन शपथ लेते हुए इस बार भूल गए, इसलिए ये याद दिलाने के लिए हमारे सांसद ने पत्र लिखा. वहीं सेंगोल पर मेरी राय वही है, जो मैंने अपनी एक्स पोस्ट में जाहिर की थी. आप चाहे तो मेरे अर्काइव से निकालकर उसे हर चैनल पर चला सकते हैं.

Advertisement

Related posts

देश में अभी तक ‘ओमीक्रोन’ के 213 मामले आए सामने

Nationalist Bharat Bureau

kolkata airport fire:कोलकाता एयरपोर्ट के डिपार्चर गेट 3 C पर आग लगी

उत्तरप्रदेश में 4 हाथ, 4 पैर वाले बच्चे ने लिया जन्म, लोगो ने कहा – भगवान का अवतार है

Leave a Comment