Nationalist Bharat
Other

2019 में चीन ने अमेरिका और रूस से ज्यादा किये मिसाइल परीक्षण

हांगकांग:चीन की सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) की सबसे बड़ी ताकत मिसाइल हथियारों का जखीरा है। वह अपने इस जखीरे को ना सिर्फ बढ़ा रहा है, बल्कि उन्नत भी कर रहा है। उसके इस जखीरे में 40 से ज्यादा तरह की मिसाइलें हैं, जिनका पारंपरिक या परमाणु हथियारों के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। अब इसमें मध्यम दूरी तक मार करने वाली डीएफ-26 बैलिस्टिक मिसाइल को भी बड़ी संख्या में शामिल किया जा रहा है। साल 2019 में उसने अमेरिका और रूस से ज्यादा परीक्षण किए।अमेरिकी सेना के करीबी सूत्र के अनुसार, माना जा रहा है कि पीएलए ने वर्ष 2016 में डीएफ-26 को पहली बार अपने मिसाइल जखीरे में शामिल किया था। अब करीब 160 डीएफ-26 मिसाइलें और शामिल की जा रही हैं। इन मिसाइलों का निर्माण पश्चिमी बीजिंग के फांग्शान में किया जा रहा है। इस फैक्ट्री में डीएफ-21 और वायु रक्षा मिसाइलें भी तैयार की जा रही हैं।

Advertisement

Related posts

एक्टू से सम्बद्ध स्कीम वर्कर्स का देशव्यापी मांग दिवस

Nicobar Islands Earthquake: निकोबार द्वीप समूह में महसूस हुए भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 5.0 रही तीव्रता

किसानों के 27 सितम्बर के बन्द को सफल बनाने के लिए बैठक

Nationalist Bharat Bureau

Leave a Comment