Nationalist Bharat
ब्रेकिंग न्यूज़

सिधु मुसेवाला की हत्या के बाद हो सकता था पंजाब में गैंगवॉर, पुलिस ने किया खुलासा

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या करने के बाद लॉरेंस बिश्रोई और गोल्डी बराड़ गिरोह को पंजाब के दविंदर बंबिहा गिरोह के शूटर की हत्या करनी थी।इसके लिए गोल्डी बराड़ ने शूटरों को निर्देश दे दिए थे। स्पेशल सेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय एजेंसियों से सूचना मिली है कि लॉरेंस बिश्रोई-गोल्डी बराड़ व दविंदर सिंह बंबिहा गिरोह में जल्द ही गैंगवार होनी थी। लॉरेंस बिश्रोई-गोल्डी बराड़ गिरोह को बंबिहा गिरोह के शूटर चस्का की हत्या करनी थी। हत्या के लिए काफी निर्देश दे दिए गए थे। चस्का की हत्या प्रियव्रत गिरोह को नहीं बल्कि दूसरे शूटरों को करनी थी।

 

Advertisement

प्रियव्रत ने बताया कि गिरोह के दूसरे लोगों से पूछताछ में पता लगा था कि लॉरेंस बिश्रोई गिरोह का अगला टारगेट चस्का है। शूटर चस्का फरार है और उसके खिलाफ कई मामले दर्ज हैं। सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद बंबिहा गिरोह ने गायक मूसेवाला की हत्या का बदला लेने का फेसबुक पर पोस्ट कर एलान किया था। पुलिस की जांच में ये बात सामने आई है कि पंजाबी गायक की हत्या के लिए विदेशी हथियारों को इस्तेमाल किया गया है। शूटरों के कब्जे से बरामद सभी हथियार विदेशी है। ग्लाक पिस्टल व हैंडग्रेड चीन के लिए हैं। कुछ हथियार चैकोस्लोविया के हैं।स्पेशल सेल के अधिकारी मान रहे हैं कि तस्करी करके इन विदेशी हथियारों को बाहर से भारत लाया गया है। शूटरों को हथियार सिरसा, हरियाणा में मोनू डागर ने दिए थे। पुलिस हथियारों की पूरी चेन को खंगालने में लगी हुई है। इसके लिए सिरसा से कुछ लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है।वर्ष 2016 में पंजाब पुलिस की मुठभेड़ में दविंदर सिंह बंबिहा मारा गया था। अब इस गैंग को आर्मेनिया में बैठा गैंगस्टर लकी गौरव पटियाल चलाता है।

 

Advertisement

मोगा जिले के बंबिहा गांव में जन्में दविंदर बंबिहा का असली नाम दविंदर सिंह सिद्धू था। जुर्म की दुनिया में आने से पहले वह एक लोकप्रिय कबड्डी खिलाड़ी था।किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाला दविंदर पढ़ाई में भी अच्छा था। साल 2010 में, जब वह कॉलेज में पढ़ाई कर रहा था तब उसका नाम एक हत्या के मामले में सामने आया था। यह हत्या गांव में दो समूहों में हाथापाई के बीच हुई थी। हत्या के मामले में उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया, जहां वह कई गैंगस्टरों के संपर्क में आया और फिर शार्प शूटर बन गया था।

Advertisement

Related posts

उदयपुर – कन्हैया लाल के पुत्रो को नोकरी देगी राजस्थान सरकार

लाइफकेयर संगठन की टीम फ्री में लड़ेगी वैशाली की बेटी गुलनाज़ का केस 

Nationalist Bharat Bureau

पूर्व सांसद आनंद मोहन की अगुवाई में जारी उपवास माँगे पूरी होने के पश्चात समाप्त

Leave a Comment