Nationalist Bharat
ब्रेकिंग न्यूज़

GST मामले पर अपनी ही सरकार पर बरसे वरुण गांधी,लोगों ने भी मोदी सरकार की लगाई क्लास

नई दिल्ली:भारतीय जनता पार्टी के सांसद वरुण गांधी ने खाने पीने की जो जैसे दूध दही मक्खन चावल दाल ब्रेड इत्यादि पर नरेंद्र मोदी सरकार के द्वारा जीएसटी लागू करने की खूब आलोचना करते हुए अपने ही सरकार को कटघरे में खड़ा किया है । भाजपा सांसद वरुण गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा के आज से दूध, दही, मक्खन, चावल, दाल, ब्रेड जैसे पैक्ड उत्पादों पर GST लागू है।रिकार्डतोड़ बेरोजगारी के बीच लिया गया यह फैसला मध्यमवर्गीय परिवारों और विशेषकर किराए के मकानों में रहने वाले संघर्षरत युवाओं की जेबें और हल्की कर देगा। जब ‘राहत’ देने का वक्त था, तब हम ‘आहत’ कर रहे हैं। बताते चलें कि भारतीय जनता पार्टी के पीलीभीत से सांसद वरुण गांधी लगातार अपनी ही सरकार और प्रधानमंत्री को लेकर निशाना साधते रहते हैं। कई कई मौके पर वरुण गांधी ने अपने लेखों के माध्यम से तो कभी अपने सोशल मीडिया अकाउंट के माध्यम से संदेश देकर भारतीय जनता पार्टी की अपनी सरकार को आईना दिखाया है। ताजा कड़ी में भाजपा सांसद वरुण गांधी के द्वारा सरकार को कटघरे में खड़ा करने से विपक्ष को भी एक बना बनाया मुद्दा हाथ लग जाएगा जिसके सहारे वो केंद्र की मोदी सरकार पर हमलावर हो सकती है। क्योंकि जीएसटी लागू करने का यह फैसला आम जनों से जुड़ा हुआ है खाने पीने की चीजों पर जीएसटी लगाकर गरीब लोगों को भी महागाई की भट्ठी में झोंकने और उनको और गरीब करने की कोशिश कही जा सकती है।

Advertisement

इसी पहले बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि यूक्रेन से सुरक्षित भारत वापस लाए गए छात्रों के हक में आवाज उठाई है। वरुण गांधी किसान आंदोलन के समय से ही केंद्र की सरकार पर निशाना साध रहे हैं और युवाओं और किसानों की व्यथा को उठा रहे हैं। वरुण गांधी ने अपील की है कि भारत सरकार को इन छात्रों की सुध लेनी चाहिए।वरुण गांधी ने ट्वीट कर लिखा कि ना ही छात्रों के पास कोई डिग्री है ना ही उनका भविष्य सुरक्षित है। उन्होंने लिखा, “यूक्रेन से लौटे 14000 हजार छात्रों का स्वागत हमने कितने हर्ष से किया था। इनके माता-पिता द्वारा सारी जमा-पूँजी लगा देने के बाद भी आज इन छात्रों का भविष्य अधर में फँसा हुआ है। न डिग्री, न कोई उम्मीद। सरकार को इन छात्रों की सुध लेते हुए इनके भविष्य का रास्ता तय करने की जरूरत है।”

 

Advertisement

 

साथ ही वरुण गांधी के ट्वीट पर लोगों भी अपने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए केंद्र की मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा किया है ।एक यूजर लिखते हैं कि विधायकों को ख़रीदना कितना महँगा हो गया है,इतना आसान थोड़े है कि जनता बहुमत न दें फिर भी सरकार बनानी पड़ती है,बेचारा @narendramodi गरीब माँ का बेटा जो ठहरा,मेरी तो आँखें भर आती है कई बार सोचते सोचते कि कितनी मेहनत करनी पड़ती होगी मोदी को,हर घर में ग़रीबी लाने के लिए।

Advertisement

यशवीर सिंह लिखते हैं कि ये कैसी न्याय प्रणाली है सरकार का कर्तव्य होता है कि देशवासियों की हर प्रकार से मदद करे यहाँ तो उलटा हो रहा है ना रोज़गार है ऊपर से हर वस्तु इतनी महँगी हो गई है की आम आदमी की पहुँच से दूर होती जा रही है ये तो भारत वासियो के साथ अन्याय है आख़िर हमने वोट देकर क्या कोई गलती कर दी।

Advertisement

तुषार नामक यूजर लिखते हैं कि आपके प्रधानमंत्री और वित्तमंत्री दोनों ही नहीं सुनते है आम इंसानो का दर्द तो आपकी बात कहा सुनेंगे. अगर वो देश के होते तो शायद ऐसा कदम नहीं उठाते इस समय. यहा एक और बात है कोई भी इनके खिलाफ बोलना शुरू करे तो उनको गालियां या देश द्रोही तक बोल दिया जाता है, सही परिपाटी है बीजेपी की.

Advertisement

अरुण सिंह लिखते हैं कि आज महंगाई की मार देश के सभी मध्यम वर्गीय परिवार को झेलना पड़ रहा है बेरोजगारी एकदम अपने चरम पर पहुंच गई है सरकार की जितनी भी नीति है सब मध्यम वर्ग के लिए दिनोदिन मुसीबत बनती जा रही है।

Advertisement

Related posts

आम आदमी पार्टी की चंडीगढ़ में जीत,पटना में जश्न,कार्यकर्ताओं ने बाँटे लड्डू

Nationalist Bharat Bureau

दिल्ली में ऑटो और टैक्सी का बढ़ा हुआ किराया आज से लागू 

cradmin

लालू को सज़ा सुनाने वाले 59 साल के जज ने 50 साल की वकील और भाजपा नेत्री से रचाई शादी

Nationalist Bharat Bureau

Leave a Comment