Nationalist Bharat
ब्रेकिंग न्यूज़

NEET Controversy:जांच के नाम पर सैकड़ों लड़कियों की उतरवाई गयी ब्रा और अंडरगारमेंट्स,रिपोर्ट दर्ज

नई दिल्ली:किसी भी विद्यार्थी के लिए डॉक्टर बनना एक सपना होता है। सपनों को साकार कर के वह सम्मान पूर्वक जिंदगी व्यतीत करना चाहता है। डॉक्टरी पेशा भी सम्मान की नजरों से देखा जाता है। खासकर लड़कियों में उसका करेज ज्यादा ही है और लड़कियां दिन रात मेहनत करके डॉक्टर बनने और लोगों की सेवा करना चाहती हैं। लेकिन इन्हें अगर बेइज्जत होना पड़े तो क्या बीती होगी यह अंदाजा लगाया जा सकता है। ऐसा ही मामला डॉक्टर बनने के लिए दिए जाने वाले नीट की परीक्षा में देखने को मिला है।डॉक्टर बनने की चाहत के लिए परीक्षा देने पहुंची सैकड़ों बेटियों को नियमों के खिलाफ परीक्षा केंद्रों पर इस पर हरकत को मजबूरी में झेलना पड़ा। अपना करिअर दावं पर लगा होने के कारण उन्हें शर्मसार होना पड़ा। इसके खिलाफ छात्राओं और उनके परिजनों ने शिकायत दर्ज करवाई है। वहीं, रिपोर्ट्स के अनुसार, सफाई देते हुए केरल के कोल्लम में स्थित परीक्षा केंद्र संचालकों की ओर से कहा जा रहा है कि बाहरी जांच एजेंसी द्वारा परीक्षा देने पहुंची छात्राओं की ब्रा उतरवाई गई, इसके पीछे का कारण ब्रा का हुक को बताया जा रहा है। ये हुक जो की मेटल के बने होते हैं और मेटल डिटेक्टर के संपर्क में आने पर बीप करने लगते हैं। इसलिए ऐसा किया गया होगा।   लड़कियों के अंडर गारमेंट्स और ब्रा उतारे जाने खबरों ने शर्मसार कर दिया है।

रविवार, 17 जुलाई, 2022 को आयोजित नीट यूजी परीक्षा के दौरान छात्राओं से जबरन इनरवियर और ब्रा उतरवाने का मामला सामने आया है। ऐसा किसी एक या दो छात्राओं के साथ नहीं बल्कि सैकड़ों छात्राओं के साथ हुआ है। छात्राओं को एग्जाम देने से पहले ब्रा उतारने के लिए मजबूर किया गया. एग्जाम सेंटर (Exam Center) में एंट्री से पहले उन्हें जांच प्रक्रिया के दौरान मेटल डिटेक्शन स्टेज पर अंडरगारटमेंट उतारने के लिए मजबूर किया गया. यह घटना केरल राज्य के कोल्लम स्थित एक एग्जामिनेशन सेंटर में हुई है.ड्रेस कोड के मुताबिक छात्राओं को परीक्षा में एंट्री करके ववक्त कोई भी मेटल ऑब्जेक्ट पहनकर न आने की हिदायत दी गई थी. नीट एडवाइजरी में ब्रा और अंडरगारमेंट्स को लेकर कुछ नहीं कहा गया है.

Advertisement

100 लड़कियों के जबरन उतरवाए गए ब्रा

छात्राओं को मानसिक उत्पीड़न का सामना करना पड़ा है. छात्राओं का कहना है कि एग्जाम सेंटर पर हुई उनसे यह बदसलूकी मानसिक अघात पहुंचा रही है. रिपोर्ट्स के मुताबिक 100 लड़कियों के साथ ऐसा ही व्यवहार हुआ है. कोट्टारक्का में छात्राओं ने पुलिस उपाधीक्षक के पास शिकायक दर्ज कराई है. परिजनों ने परीक्षा केंद्र के अधिकारियों की इस हरकत के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। प्राथमिक जानकारी के अनुसार लगभग 100 लड़कियों को इस स्थिति का सामना करना पड़ा।कोट्टारक्का के पुलिस उपाधीक्षक के कार्यालय में इस संबंध में शिकायत दर्ज कराई गई है। परीक्षार्थियों के अनुसार, रविवार को परीक्षा के बाद उनके अंडरगारमेंट्स को डिब्बों में भरकर एक साथ फेंके गए थे।

Advertisement

Related posts

बिहार:एमएलसी आवास का निर्माण लटकाने वाली एजेंसी का करार रद होगा

Nationalist Bharat Bureau

मुख्तार अब्बास नकवी और आरसीपी सिंह का इस्तीफ़ा तय

एक बार फिर पीएम मोदी की सुरक्षा में हुई चूक, क्या आपको पता है कितनी टाइट सिक्योरिटी होती है

Leave a Comment