Nationalist Bharat
राजनीति

कांग्रेस ने अपने नेताओं के खर्चे कराए कम ये सुविधा देने से किया इंकार

वित्तीय संकट से जूझ रही कांग्रेस ने अपने पदाधिकारियों से खर्च में कटौती के उपाय करने को कहा है। पार्टी के कोषाध्यक्ष पवन कुमार बंसल द्वारा पार्टी के पदाधिकारियों और सचिवों को लिखे पत्र में उन्हें अपने निर्धारित राज्यों में रहने को कहा गया है। पदाधिकारियों को 1400 किलोमीटर तक की यात्रा के लिए कोई हवाई किराया नहीं दिया जाएगा और उससे लंबी यात्रा के लिए सबसे कम हवाई किराया दिया जाएगा, जबकि महासचिव और सांसद अपना खर्च स्वयं वहन करेंगे।

यात्रा किराया में होगी कटौती
बंसल के पत्र में कहा गया है, “एआईसीसी सचिवों को अपने संबंधित राज्यों में कम से कम 15-20 दिन बिताने होंगे। एआईसीसी सचिवों के मुख्यालय को उन राज्यों में स्थानांतरित कर दिया जाएगा, जहां का प्रभार उन्हें सौंपा गया है। हालांकि, उन्हें बैठकों, परामर्श आदि के लिए कभी-कभी एआईसीसी मुख्यालय में आना होगा।” पत्र में कहा गया है कि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिवों को 1400 किमी तक का रेल किराया वापस किया जाएगा। 1400 किमी से ऊपर की दूरी के लिए सचिवों को सबसे कम हवाई किराया दिया जाएगा। हवाई किराया महीने में दो बार ही दिया जाएगा। यदि ट्रेन का किराया हवाई किराए से अधिक है, तो वे हवाई यात्रा करना चुन सकते हैं।
कैंटीन, स्टेशनरी, ईंधन के खर्चे घटाने का कहा
पत्र में यह भी कहा गया है कि महासचिव/प्रभारी जो संसद सदस्य हैं, से अनुरोध है कि वे यात्रा के लिए अपनी हवाई सुविधा का उपयोग करें। पत्र में कहा गया है कि कैंटीन, स्टेशनरी, बिजली, समाचारपत्र, ईंधन आदि पर होने वाले खर्च को एआईसीसी के पदाधिकारियों द्वारा स्वयं कम से कम किया जाना चाहिए। एआईसीसी के सभी महासचिव/प्रभारी, आईसीसी सचिव, फ्रंटल संगठनों के प्रमुख, विभागों/प्रकोष्ठों के प्रमुख, कैंटीन और कंप्यूटर सहायक उपकरण: एआईसीसी परिसर में स्थित महासचिव/प्रभारी, फ्रंटल प्रमुख, विभागों के प्रमुख और प्रकोष्ठ कृपया अपने स्टाफ सदस्यों में से एक को जरूरती कागजात पर हस्ताक्षर करने के लिए जिम्मेदार नामित कर सकते हैं और कोषाध्यक्ष कार्यालय में लेखा अधिकारी को एक साप्ताहिक खाता दे सकते हैं
Advertisement

Related posts

अभी तो बांग्लादेश से पीछे हुए हैं, कुछ दिन में नेपाल से हो जाएंगे:तेजस्वी यादव

हिंदुत्व से लोकप्रियता और हिंदुत्व से ही अलोकप्रियता

बुद्ध के अनुयायियों को सत्ता क्यों सुहाने लगी?

Leave a Comment