Nationalist Bharat
टेक्नोलॉजी

इंटरनेट का उपयोग करते समय लड़कियों को सावधान रहना चाहिए

  1. इंटरनेट का इस्तेमाल जहां हमारे लिए वरदान साबित हुआ है, वहीं कहीं-कहीं यह अभिशाप भी साबित हुआ है। इसके दुरूपयोग से साइबर क्राइम में काफी वृद्धि हुई है।
  2. खासकर किशोर लड़कियां जागरूकता की कमी के कारण हैकर्स का आसान निशाना बन जाती हैं।
  3. इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप खुद को जागरूक रखें।
  4. अपनी और अपने परिवार की व्यक्तिगत जानकारी को इंटरनेट पर सार्वजनिक नहीं करना चाहिए।
  5. अपनी और अपने परिवार की व्यक्तिगत जानकारी को इंटरनेट पर सार्वजनिक नहीं करना चाहिए।

 

दिल्ली की रहने वाली कविता (बदला हुआ नाम) सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती थीं। उनके कई फॉलोवर भी थे। लेकिन एक दिन अचानक उन्होंने पाया कि उनका सोशल मीडिया अकाउंट हैक हो गया है। कविता कहती हैं, ‘लॉकडाउन के दौरान मैं इंस्टाग्राम के छोटे-छोटे वीडियो देखकर कुछ सीखने की कोशिश करती थी, लेकिन एक दिन मुझे अपने दोस्तों के जरिए पता चला कि किसी ने मेरा इंस्टाग्राम अकाउंट हैक कर लिया है और अब वे इसका गलत इस्तेमाल कर रहे हैं। मैं चिंतित थी, मुझे समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूं। मुझे इसे किसके साथ साझा करना चाहिए और मुझे किससे मदद लेनी चाहिए? क्योंकि अगर कोई हैकर मेरे वीडियो या फोटो का गलत इस्तेमाल करता है और उसे वायरल कर देता है तो यह मेरे लिए अच्छा नहीं होगा.फिर अचानक मुझे एक ऐसी संस्था के बारे में पता चला जो इस समस्या से बाहर निकलने के लिए साइबर सुरक्षा से जुड़े मामलों में मदद करती है. मैंने उनसे इस समस्या से बचने के लिए मदद मांगी और उन्हें पूरी स्थिति से अवगत कराया, उन्होंने मुझे ऑनलाइन एफआईआर दर्ज करने और साइबर सुरक्षा के बारे में बताया।” वी कहते हैं, “मेरे परिवार ने मुझे उच्च शिक्षा और उससे जुड़े काम करने के लिए एक मोबाइल फोन दिया इससे मेरी ऑनलाइन क्लास अच्छी चल रही थी लेकिन अचानक एक दिन एक अनजान नंबर से कॉल, मैसेज और अश्लील वीडियो आने लगे और तरह-तरह की धमकियां मिलने लगीं. जिससे मैं बहुत डर गयी थी, मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करूं? वह अपनी समस्या किसी से साझा करने से भी डरती थी।आखिरकार, मैंने चिंता के कारण अपना सिम कार्ड ब्लॉक कर दिया।” वह कहती हैं, ”मुझे नहीं पता था कि उसके खिलाफ कहां और कैसे शिकायत करूं। साइबर सुरक्षा ज्ञान की कमी के कारण मैं इसका शिकार हो गयी, अगर मुझे पता होता और किसी ने मुझे साइबर सुरक्षा हेल्पलाइन नंबर 1930 के बारे में बताया होता, तो आज मुझे अपना सिम ब्लॉक नहीं करना पड़ता लेकिन ऐसा साइबर अपराधी जेल में होता।

Advertisement

 

इंटरनेट का इस्तेमाल जहां हमारे लिए वरदान साबित हुआ है, वहीं कहीं-कहीं यह अभिशाप भी साबित हुआ है। इसके दुरूपयोग से साइबर क्राइम में काफी वृद्धि हुई है। जैसे-जैसे इंटरनेट की गति बढ़ती है, वैसे-वैसे साइबर अपराध ने भी अपने पंख फैला लिए हैं। इसके इस्तेमाल से दूर बैठे लोगों से जुड़ना बेहद आसान हो गया है. कारोबार के विस्तार में भी इसकी अहम भूमिका रही है। इसने हमारे दैनिक जीवन के कार्यों को बहुत सरल कर दिया है। लेकिन जहां इंटरनेट के कई फायदे हैं वहीं इसके कुछ नुकसान भी हैं। अगर सावधानी से इस्तेमाल नहीं किया गया तो यह हैकर्स के जाल में फंस सकता है। जो आपके खुद के मोबाइल का इस्तेमाल गलत कामों के लिए कर सकता है जिसे साइबर क्राइम के नाम से जाना जाता है। इसमें ऑनलाइन साइबर अपराध करने के लिए इंटरनेट पर कंप्यूटर उपकरणों का दुरुपयोग करना शामिल है। हैकिंग के अलावा निजी जानकारी ऑनलाइन चोरी करना, धोखाधड़ी और चाइल्ड पोर्नोग्राफी आदि सभी साइबर अपराध के अंतर्गत आते हैं। साइबर क्राइम सोशल मीडिया, फोरम या गेमिंग के जरिए ऑनलाइन किया जा सकता है। जहां उपयोगकर्ता सामग्री पढ़ सकते हैं, इसके साथ बातचीत कर सकते हैं या इसकी सामग्री को एक दूसरे के साथ साझा कर सकते हैं। यह एसएमएस, टेक्स्ट और एप्लिकेशन के जरिए किया जा सकता है। इस संबंध में कई साइबर विशेषज्ञों का सुझाव है कि लोगों को सोशल मीडिया पर अपनी फोटो और निजी जानकारी साझा करने से बचना चाहिए। इसका उपयोग तभी करना चाहिए जब हमें इनके बारे में पूरी जानकारी हो।

Advertisement

 

ऑनलाइन अपराधियों से बचने के लिए, हमेशा एक मजबूत पासवर्ड का उपयोग करें जिसमें बड़े अक्षर, संख्याएं और विशेष वर्ण शामिल हों, और पासवर्ड को समय-समय पर बदलते रहें। जानकारों के मुताबिक सोशल मीडिया नेटवर्क और इसकी पहुंच असीमित है। ऐसे में साइबर क्रिमिनल्स यानी हैकर्स का सही-सही पता लगाना काफी मुश्किल होता है। जैसे-जैसे सोशल मीडिया एडवांस होता जा रहा है, वैसे-वैसे इससे जुड़े अपराधी भी और एडवांस होते जा रहे हैं. इसलिए इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप खुद को जागरूक रखें। यह किशोरों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण हो गया है। हर दिन नए-नए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म उपलब्ध हो रहे हैं, जहां आप अपने कौशल का प्रदर्शन कर सकते हैं, जिसके पीछे युवा आकर्षित होकर हैकर्स के चंगुल में फंस जाते हैं। इसलिए बिना पूरी जानकारी के कोई भी नया ऐप डाउनलोड नहीं करना चाहिए।

Advertisement

Related posts

मास्क्ड आधार कार्ड को कैसे डाउनलोड करते है ,STAP By STAP पूरी जानकारी

कई घंटे ठप रहने के बाद फिर शुरू हुई Jio सर्विस, कॉल और SMS इस्तेमाल में अब नहीं आ रही दिक्कत

Nationalist Bharat Bureau

JIO ग्राहकों को झटका, 150 रुपये महंगा हुआ ये प्लान, इन यूजर्स पर पड़ेगा असर

Leave a Comment