Nationalist Bharat
राजनीति

बिहार में पान की दुकान पर जो राजनीति होती है गुजरात में मुख्यमंत्री आवास में भी वैसी राजनीति नहीं होती

जिस तरीके से बीजेपी ने 2020 में छल से नीतीश कुमार को कमजोर किया है नीतीश जब तक उस छल में शामिल एक एक व्यक्ति को ठिकाना नहीं लगा देंगे तब तक बीजेपी का साथ छोड़ेंने वाले नहीं हैं। चिराग गये ,आरसीपी गये, भूपेन्द्र यादव गये ,नित्यानंद को जगह लगा दिया और अब बारी संजय जायसवाल की है ।नीतीश यही रुकने वाले नहीं है।अंतिम निशाना अमित शाह हैं। जब तक यह खेल पूरा नहीं हो जाता तब तक नीतीश बीजेपी को छोड़ने वाले नहीं है।

 

Advertisement

संतोष सिंह

कल रात से ही दिल्ली के पत्रकार मित्रों और भाजपा से जुड़े मित्रों का लगातार फोन आ रहा है कि बिहार में क्या हो रहा है। नीतीश बीजेपी का साथ छोड़ रहे हैं, किसी ने कहां मेरे पास पक्की खबर है लालू और नीतीश के बीच बातचीत हुई है,किसी ने कहा ललन सिंह का बयान बहुत महत्व रखता है ।
किसी ने बिहार बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष के फेसबुक वाल का टेक्स्ट लेकर भेजा “ईश्वर आपको सच सुनने की क्षमता दे”पता नहीं क्यों संजय जायसवाल का सरकार और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लेकर जो बयान दिया था और उस बयान के बाद ललन सिंह और नीरज सिंह की जिस अंदाज में प्रतिक्रिया आयी है उसके बावजूद मुझे ऐसा नहीं लगा कि बिहार की राजनीति में कुछ होने वाला है ।आज सुबह पटना से बाहर थे।नेट काम नहीं कर रहा था फिर भी लोगों की कॉल आ रही थी आज शाम होते होते कुछ ना कुछ जरूर होगा ,शाम में नीतीश कुमार ने पार्टी के तमाम बड़े नेता को आवास पर बुलाया है।फिर बीजेपी के एक मित्र ने संजय जायसवाल के फेसबुक पोस्ट का टेक्स्ट भेजा “1967 से बिहार की राजनीति में सदैव कुछ ऐसा महानुभव रहे हैं जो जिनके पास सटकर आगे बढ़ते हैं उनको अगले दिन से ही काटना शुरू कर देते हैं और जो इनको भगाता है उनको अगले दिन से ही दूध पिलाना शुरू कर देते हैं”।

 

Advertisement

संजय जायसवाल का यह पोस्ट सच में बेहद गंभीर है और ऐसा लग रहा है बीजेपी नीतीश से दो दो हाथ करने के मूड में आ गयी है ।लेकिन मेरा मानना है कि जिस तरीके से बीजेपी ने 2020 में छल से नीतीश कुमार को कमजोर किया है नीतीश जब तक उस छल में शामिल एक एक व्यक्ति को ठिकाना नहीं लगा देंगे तब तक बीजेपी का साथ छोड़ेंने वाले नहीं हैं। चिराग गये ,आरसीपी गये, भूपेन्द्र यादव गये ,नित्यानंद को जगह लगा दिया और अब बारी संजय जायसवाल की है ।

 

Advertisement

नीतीश यही रुकने वाले नहीं है।अंतिम निशाना अमित शाह हैं। जब तक यह खेल पूरा नहीं हो जाता तब तक नीतीश बीजेपी को छोड़ने वाले नहीं है।क्यों कि बिहार को लेकर मोदी अभी भी सहज नहीं है और 2015 की हार के ट्रोमा से वे अभी भी बाहर नहीं निकल पाये हैं। नीतीश इसी का लाभ उठा रहे हैं ,भाई ये बिहार है यहां पान की दुकान पर जो राजनीति होती है गुजरात में मुख्यमंत्री आवास में भी वैसी राजनीति नहीं होती है।देखिए आगे आगे होता है क्या।वैसे बिहार जिस दिशा में बढ़ रहा है ना दिल्ली को समझ में आ जाएगा कि किस से पाला पड़ा है।वैसे दिल्ली की सरकार और बीजेपी को अग्निवीर का विलेन तो बना ही दिया है ।

Advertisement

Related posts

दिल्ली में जमकर बरसे राहुल गांधी, पर भाषण सुनकर भाजपा ने क्यों कहा ‘थैंक यू कांग्रेस’

Nationalist Bharat Bureau

गुजरात में बडी जित कैसे हांसल की पहली बार भेद खोला CR पाटीलने, 2024 में भी गेम प्लान

cradmin

भाकपा माले ने मनाया धिक्कार दिवस

Leave a Comment