Nationalist Bharat
ब्रेकिंग न्यूज़

क्या होगा नीतीश सरकार का,कुछ देर बाद चलेगा पता

पटना:कुछ देर बाद बिहार के विधानसभा में अब तक का सबसे बड़ा राजनीतिक घमासान होने जा रहा है।एक तरफ भारतीय जनता पार्टी की अगवाई वाली एनडीए सरकार को अपना बहुमत साबित करना है तो दूसरी तरफ इंडिया गठबंधन की अगुवाई वाली पार्टी राष्ट्रीय जनता दल कांग्रेस और लिफ्ट की पार्टियों को अपनी ताकत दिखाने का अवसर है। अब तक के आंकड़ों के अनुसार कहा यह जा रहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बहुमत परीक्षा में कामयाब होंगे और अपनी सरकार बचा ले जाएंगे लेकिन मीडिया में आ रही खबरे के अनुसार जनता दल यूनाइटेड और भाजपा के विधायकों को जिस तरह से रखा गया है ऐसे में संभावना है कि खेल हो सकता है।

 

Advertisement

 

दरअसल बिहार में इस तरह का मामला बहुत कम ही देखने को मिलता है। पिछले 15 ,17 सालों में नीतीश कुमार ने कई बार पलटी मारी है लेकिन ऐसी राजनीतिक स्थिति का सामना कभी भी नहीं करना पड़ा है। नीतीश कुमार ने बड़ी आसानी से पलटी मारी है और बहुत ही आसानी से सरकार भी बना ली है।लेकिन जनवरी 2024 में नीतीश कुमार के द्वारा इंडिया गठबंधन से अलग होकर एनडीए गठबंधन में शामिल होने के बाद विश्वास मत हासिल करने के लिए जिस तरह की राजनीतिक उठापटक देखने को मिल रही है उससे साफ है कि नीतीश कुमार की राह इस बार इतनी आसान नहीं जितनी खुद नीतीश कुमार ने सोच रखी थी।इस बीच विधानसभा के अध्यक्ष अवध बिहारी चौधरी के द्वारा त्यागपत्र ना देने और विधानसभा के फ्लोर की कार्रवाई का संचालन करने की बात कहे जाने के बाद जो संवैधानिक संकट की बात सामने आई है वह भी नीतीश कुमार के लिए परेशानी का सबब है।

Advertisement

 

इस बीच रविवार को राष्ट्रीय जनता दल के प्रधान राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सांसद मनोज झा के द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस में जिस तरह का रुख अपनाया गया है उससे भी साफ जाहिर होता है कि राष्ट्रीय जनता दल भी कोई कोर कसर बाकी रखने के मूड में नहीं है और वह भी अपनी ताकत का भरपूर प्रदर्शन करने को आतुर है।ऐसी स्थिति में अब से कुछ देर बाद होने वाले बहुमत परीक्षण का नजारा भी बड़ा दिलचस्प होगा। अंतिम समय तक कोई यह नहीं कर सकता है कि जीत किसकी होगी।

Advertisement

 

 

Advertisement

दूसरी तरफ बिहार की राजनीति पर नजर रखने वाले राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि नीतीश कुमार के दौर का यह सबसे कठिन दौर है और सोमवार को होने वाले फ्लोर टेस्ट में कुछ भी हो सकता है। राजनीतिक विश्लेषकों के मुताबिक एक स्थिति यह है कि विधानसभा के अध्यक्ष अवध बिहारी चौधरी को पहली फुर्सत में अपदस्थ करके जनता दल यूनाइटेड और एनडीए के विधायक गण अपने अनुरूप कार्रवाई को संचालित करें और विश्वास मत का वोट हासिल कर ले तो दूसरी तरफ अगर विधानसभा अध्यक्ष अवध बिहारी चौधरी ने इस्तीफा नहीं दिया और उनके खिलाफ लाया गया अविश्वास प्रस्ताव भी पास नहीं हो पाया तो ऐसी स्थिति में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।

 

Advertisement

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि विधानसभा के पटल पर आज का घटनाक्रम पल-पल में बदलता हुआ दिखाई देगा जिसमें सत्ता पक्ष सत्ता बचाने और बिगड़ना के हर एक आजमाएगा।

Advertisement

Related posts

उत्तरप्रदेश में 4 हाथ, 4 पैर वाले बच्चे ने लिया जन्म, लोगो ने कहा – भगवान का अवतार है

बिहार महागठबंधन में सीटों का बटवारा तय,पटना में होगा ऐलान

लालू यादव को अस्पताल से मिली छुट्टी, सिंगापुर में ही मनाएंगे क्रिसमस और नया साल

Nationalist Bharat Bureau

Leave a Comment